Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

Metallurgy

मुंबई | जुलाई 19, 2021
पिघले हुए लोहे के ठंडा होने की गति से उसके गुणों का निर्धारण होता है

एक नवीन शीतलन मॉडल, ढलवाँ लोहे (कास्ट आयरन) की दृढ़ता और लचीलेपन का बेहतर पूर्वानुमान देता है

General, Science, Technology, Deep-dive
Metallurgy की  सदस्यता लें!